कोलकाता । टाटा स्टील माइ‎निंग ने कहा ‎कि कंपनी का लक्ष्य निकट भविष्य में फेरो क्रोम विनिर्माण क्षमता को 4,50,000 टन से बढ़ाकर 9,00,000 टन प्रतिवर्ष करने की है। टीएसएमएल ने कहा कि उसने वर्ष 2020 की खनिज नीलामियों में तीन क्रोमाइट खानों का अधिग्रहण किया था जो सुकिंदा क्रोमाइट माइन, सारुएबिल क्रोमाइट माइन और कामर्दा क्रोमाइट माइन हैं। अधिकारियों ने कहा कि इन खानों की लीज 50 साल के लिए है। एक बयान में कहा गया है कि खदानें अब 15 लाख टन की वार्षिक क्षमता के साथ चालू हो गई हैं, जिससे कंपनी भारत में क्रोम अयस्क खनन में सबसे बड़ी कंपनी बन गई है। टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड के चेयरपर्सन डीबी सुंदर रामम ने कहा ‎कि हम क्रोम अयस्क की अच्छी गुणवत्ता का लाभ उठाते हुए भारत में अपनी फेरो क्रोम विनिर्माण क्षमता को बढ़ाने का प्रयास करेंगे। यह टीएसएमएल को भारत में सबसे अग्रणी फेरो क्रोम कंपनी बना देगा और वैश्विक स्तर पर उसे शीर्ष पांच में स्थान दिलाएगा।