Saturday, 22 September 2018, 1:17 PM

धर्म कर्म

खतरे में बैजनाथ शिव मंदिर

Updated on 15 February, 2014, 12:16
बैजनाथ। ऐतिहासिक शिव मंदिर बैजनाथ खतरे में है। जिस पहाड़ी पर मंदिर बना है वह कमजोर होती जा रही है। पठानकोट-मंडी हाईवे के किनारे आई दरारें इसकी गवाही दे रहे हैं, लेकिन जहां मुख्यमंत्री की बात की भी अनदेखी की जा रही हो वहां उम्मीद भी क्या हो? बिनवा खड्ड की... आगे पढ़े

माघी पूर्णिमा पर लगाई पुण्य की डुबकी

Updated on 14 February, 2014, 20:33
लखनऊ। मौसम की बेरुखी पर आज आस्था भारी पड़ी और इलाहाबाद में दस लाख से अधिक लोगों ने माघी पूर्णिमा स्नान पर संगम में डुबकी लगाई। दोपहर 12 बजे तक करीब दस लाख लोगों ने संगम सहित दर्जनभर घाटों पर स्नान किया। दंडी बाड़ा, आचार्य बाड़ा, खाक चौक सहित मेले में... आगे पढ़े

बरसाना की गोपियों के वेलेंटाइन तो श्रीकृष्ण

Updated on 14 February, 2014, 20:32
मथुरा । सांसारिक प्रेम के पाश्चात्य पर्व वेलेंटाइन डे को भगवान श्रीकृष्ण के दीवाने ब्रजवासी अनूठे तरीके से मनाते हैं। वृषभान नंदिनी के निज धाम बरसाना के गहवरवन में रहने वाली दर्जनों गोपियां आज भी राधा के प्रियतम कान्हा को अपना प्रेमी मानती हैं। ये युवतियां मीराबाई की तरह खुद... आगे पढ़े

जानना, नहीं चाहेंगे आपकी आत्मा का रंग कैसा है?

Updated on 13 February, 2014, 21:08
यह दुनिया रंग-बिरंगी या कहें कि सतरंगी है। सतरंगी अर्थात सात रंगों वाली। लेकिन आत्मा का कोई रंग पता नहीं चला है। ध्यान, धारणा, समाधि और पूजापाठ से लेकर मृत्यु के बाद वापस शरीर में लौटे लोगों तक आत्मा और परलोक के अनुभव बताते हैं पर उसका रंग कोई नहीं बताता। अध्यात्म... आगे पढ़े

तब सीता के यह तीन अंग फड़कने लगे और वह प्रसन्न हो गई

Updated on 13 February, 2014, 21:07
रामायण में इस बात वर्णन मिलता है कि भगवती सीता को लंका में राक्षस और राक्षसियां खूब डराती थीं। रावण के कहने से राक्षसियां देवी सीता को रावण से विवाह के करने के लिए तंग करती थी। इससे दुःखी होकर देवी सीता के मन में अत्महत्या का विचार आया। देवी सीता... आगे पढ़े

क्यों क्रोधित हो गए इंद्र जब ऋषि ने कहा यह मैं नहीं दे सकता

Updated on 13 February, 2014, 21:06
सतयुग में महर्षि दध्यंग आथर्वण अग्रणी ब्रह्मवेत्ता के रूप में विख्यात थे। देव शिरोमणि इंद्र उनकी ख्याति सुनकर एक दिन उनके पास पहुंचे। इंद्र ने कहा, महर्षि, मेरी मनोकामना पूर्ण करने के लिए मुझे वरदान देने का वचन दें। महर्षि ने वचन देकर उनसे बैठने को कहा। महर्षि ने पूछा, अतिथिवर,... आगे पढ़े

सौ के फेर में नहीं पड़ें

Updated on 13 February, 2014, 21:04
आगरा। कड़वे प्रवचनों के लिए विख्यात राष्ट्र संत तरुण सागर महाराज ने बुधवार को कड़वी बातों में नसीहतें दीं। उन्होंने धन के पीछे नहीं भागने, इच्छाओं पर नियंत्रण करने और तपस्या में समस्या का समाधान छुपा होने की बात कही। राष्ट्र संत के प्रवचन सुनने के लिए भीड़ उमड़ी। खचाखच... आगे पढ़े

गंदगी देख श्रद्धालु बोले, त्रहिमाम

Updated on 12 February, 2014, 13:32
मथुरा । 26 घंटे से राल ड्रेन दिन-रात उफन रही है। ड्रेन के पानी के साथ कई किलोमीटर की गंदगी यमुना में प्रवाहित होने से घाटों के किनारे पॉलीथिन और कचरा ही नजर आ रहा है। इस भयावह स्थिति को देख मंगलवार को यमुना में स्नान और पूजन करने आये... आगे पढ़े

बुद्घिमान मनुष्य को मृत्यु के समय यह काम जरुर करना चाहिए

Updated on 11 February, 2014, 21:13
दिल्ली : श्रीमद्भागवत में एक सुंदर उपाख्यान आता है। उसमें सात दिन में तक्षक सांप के काटने से अपनी मृत्यु होने से पूर्व राजा परीक्षित ने शुकदेव से कई प्रश्न पूछे। एक प्रश्न में वे जिज्ञासा करते हैं कि- मरते समय बुद्धिमान मनुष्य को क्या करना चाहिए? शुकदेव ने कहा-जो विशिष्ट... आगे पढ़े

जब मरते समय उसने लिया बेटे का नाम और हो गया चमत्कार

Updated on 11 February, 2014, 21:06
मौत की घड़ी सामने आ गयी थी। खाट पर लेटा हुआ अजामिल अपने बीते दिनों को याद कर रहा था। एक सुंदर स्त्री के रुप पर मोहित होकर इसने अपनी पतिव्रता पत्नी को छोड़ दिया। स्त्री के रुप जाल में उलझकर सारे अनैतिक काम किया ताकि वह प्रसन्न रहे। माता-पिता के... आगे पढ़े

मुक्ति पाने के लिए खुद को अज्ञानी और बुद्घिहीन क्यों कहते हैं भक्त

Updated on 11 February, 2014, 21:05
ऋषि-मुनियों, संत-महात्माओं तथा भक्तों ने भगवान से अपने अवगुणों को अनदेखा कर शरण में लेने की प्रार्थना की है। संत कवि सूरदास प्रभु मेरे अवगुण चित न धरो पंक्तियों में विनयशीलता का परिचय देते हुए शरणागत करने की प्रार्थना करते हैं, तो तुलसीदास प्रभु राम से पूछते हैं, काहे को... आगे पढ़े

दानघाटी मंदिर ने खोला सेवा का रास्ता

Updated on 11 February, 2014, 20:57
गोवर्धन । दानघाटी मंदिर के प्रबंध तंत्र ने सैकड़ों धार्मिक संस्थानों और सरकार को आईना दिखा दिया। मंदिर प्रबंधन ने श्रद्धालुओं की मदद से गोवर्धन का चेहरा बदलने का निर्णय लिया है। यही नहीं धर्म को सेवा क्षेत्र में उतारने का भी बड़ा प्रयास किया है। योजना के तहत यहां... आगे पढ़े

श्री कृष्ण ने ऐसा कौन सा पाप किया राधा ने कहा मत छूना मुझे

Updated on 10 February, 2014, 20:46
गवान श्री कृष्ण और राधा का प्रेम अनोखा है। दोनों एक दूसरे के हृदय में रहते हैं। लेकिन एक बार श्री कृष्ण ने ऐसा काम किया कि राधा और गोपियां कृष्ण से दूर-दूर रहने लगी। राधा ने कृष्ण से यह भी कहा कि मत छूना मुझे। इस घटना के बाद कृष्ण... आगे पढ़े

नहीं जानते होंगे देवी देवताओं की कुल संख्या कितनी है

Updated on 9 February, 2014, 22:21
लोगों का मानना है कि हिंदू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवता हैं, लेकिन ऐसा है नहीं। यह एक गलतफहमी के कारण हुआ है। शास्त्रों में, खासकर वेदों में 33 कोटि देवी-देवताओं का उल्लेख है। इस कारण से कहा जाता है कि देवी देवताओं की संख्या 33 करोड़ है। जबकि कोटि... आगे पढ़े

जहां देवता को कैद करके मुरादें पूरी करवाते हैं लोग

Updated on 9 February, 2014, 22:18
भगवान श्री कृष्ण का जन्म भले ही जेल में हुआ लेकिन जन्म लेते ही वह जेल से आजाद हो गए। लेकिन उत्तराखंड के एक देवता ऐसे हैं जो युगों से कैदखाने में बंद हैं। कैदखाना ही इनका मंदिर है। साल में सिर्फ एक बार वैशाख पूर्णिमा को कुछ घंटों के लिए... आगे पढ़े

ज्वालामुखी में गुप्त नवरात्र संपन्न

Updated on 9 February, 2014, 17:07
ज्वालामुखी। विश्व विख्यात शक्तिपीठ ज्वालामुखी मंदिर में शनिवार को गुप्त नवरात्र का प्रदेश स्वतंत्रता सेनानी कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष सुशील रतन ने विधिवत समापन किया। नौ दिन तक चलने वाले इस धार्मिक अनुष्ठान में पुजारी महासभा व मंदिर प्रशासन से संयुक्त तत्वाधान में देवी आराधना, ज्वाला मां के मूलमंत्र का जाप,... आगे पढ़े

रामलला के अस्थाई मंदिर को खतरा

Updated on 8 February, 2014, 13:08
अयोध्या। रामलला का अस्थाई मंदिर खतरे में है। मंदिर में लगाई गई 12 बल्लियां सड़ गई हैं और बोझ उठाने के काबिल नहीं हैं। मंदिर की तिरपाल की छत चार बड़ी व 28 पतली बल्लियों के सहारे टिकी है। सड़ चुकी बल्लियों को बदलने के लिए सुप्रीम कोर्ट की अनुमति जरूरी... आगे पढ़े

भाषाई अंचलों की रामकथा अब हिंदी में

Updated on 8 February, 2014, 13:06
अयोध्या। देश के 22 विभिन्न भाषाई अंचलों में रची-बसी रामकथा हिंदी में अनूदित होगी। इस महती मुहिम का बीड़ा अयोध्या शोध संस्थान ने उठाया है। हर अंचल की रामकथा के लिए शोध संस्थान की पत्रिका साक्षी का एक-एक अंक समर्पित होगा। इस मुहिम के तहत न केवल प्रत्येक अंचल की... आगे पढ़े

महाकाल के साथ ही काल का कदमताल

Updated on 8 February, 2014, 13:04
वाराणसी। देवाधिदेव महादेव, पालनहार और तारनहार भी लेकिन उनके दरबार की दरो दीवार ने स्वाभाविक तौर पर वक्त के तमाम वार सहे। कई भवन रखरखाव के अभाव में ढहे तो ऐसे तमाम स्थान जिनका अस्तित्व भी नहीं रहा। धर्मशास्त्रीय विधान से बने इस परिसर के इतिहास का न्यास परिषद स्केच बनवाएगी।... आगे पढ़े

आज हुरियारे बनेंगे गिरिराज जी

Updated on 8 February, 2014, 13:01
गोवर्धन। वीरभूमि पर बरसता ब्रज का प्रेमरंग राजस्थान की धरा में दिव्यता बिखेर रहा है। श्रीनाथजी गिरिराज प्रभु के मिलन को तैयार हुआ होली महोत्सव शुक्रवार से रंगों की बारिश करता नजर आएगा। ब्रज के रंगों की बौछार करने नाथद्वारा पहुंचे गिरिराज प्रभु आज से हुरियारे के रूप में दर्शन देंगे।... आगे पढ़े

ब्रज के 'वेलेंटाइन' पर दुनिया फिदा

Updated on 7 February, 2014, 16:21
मथुरा। देश भर में आज भले ही पश्चिमी दुनिया से आए वेलेंटाइन की बयार बह रही हो, लेकिन ब्रज के 'वेलेंटाइन' यानि कान्हा पर तो आदिकाल से ही पूरी दुनिया फिदा रही है। सिर पर मोरपंखी, कटीले नेत्र, ठोड़ी पर लगा हीरा, अधरों तक आभा बिखेरती बांसुरी, तिरछे कदमों के... आगे पढ़े

विश्वनाथ दरबार ने मांगे दो अधिकारी

Updated on 7 February, 2014, 2:20
वाराणसी। सबकी झोली भरने वाले काशी पुराधिपति देवाधिदेव महादेव दरबार को मंदिर व्यवस्थापन के लिए दो अफसर चाहिए, एक मुख्य कार्यपालक तो दूसरे वित्त लेखाधिकारी मगर शासन है कि भगवान का भी ध्यान नहीं रखता। मुख्य कार्यपालक अधिकारी का पद नौ वर्षो से उधारी पर है। वित्त लेखाधिकारी 30 वर्ष... आगे पढ़े

तीन करोड़ की लागत से सारनाथ में बनेगा उपकेंद्र

Updated on 7 February, 2014, 2:18
वाराणसी। बिजली व्यवस्था से आजिज बनारस के एक क्षेत्र को अब शीघ्र ही राहत मिलने वाली है। सारनाथ में शक्तिपीठ आश्रम के नाम से 33केवी सबस्टेशन बनेगा। भूमि चयन के बाद वाराणसी जोन के मुख्य अभियंता ने निर्माण शुरू कराने के लिए बुधवार को स्वीकृति दे दी। इसके निर्माण में... आगे पढ़े

नाथद्वारा के राजा ने द्वार पर किया ब्रजराज का स्वागत

Updated on 7 February, 2014, 2:15
गोवर्धन। दुनिया को आस्था की किरणों से रोशन करते पर्वतराज की सवारी जिस तरह से शान-ओ-शौकत से नाथद्वारा पहुंची, नाथद्वारा के राजा ने भी उतनी की गर्मजोशी से गिरिराज जी का स्वागत किया। निज प्रयोग में आने वाले सूरज और चांद के राजकीय चिन्हाें को अगवानी के लिए भेजा तो... आगे पढ़े

आई बहार वसंत, उमंग मन गुरु चरनन लिपटायो

Updated on 3 February, 2014, 15:53
वृंदावन/आगरा। कान्हा की नगरी में बसंत पंचमी पर जगह-जगह पंडाल सजाकर मां सरस्वती की पूजा की जायेगी। शहर के कई इलाकों में पंडाल सजाने और प्रतिमाओं को संवारने का काम तेज गति से किया जा रहा है। भगवान श्रीकृष्ण की क्रीड़ास्थली में घर-घर भले ही लड्डूगोपाल की पूजा होती है। लेकिन... आगे पढ़े

पांच हजार मीरा कृष्णभक्ति में तल्लीन

Updated on 3 February, 2014, 15:50
वृंदावन। जहर का प्याला पीने वाली मीरा राजपाट को त्याग कान्हा की दीवानी हो गई थी। इस दीवानगी को आज भी जीवंत किये हुये हैं वृंदावन में रह रहीं पांच हजार मीराएं। ये सभी महिलायें परिवार त्याग कृष्ण की आराधना और भक्ति में लीन हैं। जबकि दान में मिले अन्न... आगे पढ़े

ब्रज में कल से बहेगी बसंती बयार

Updated on 3 February, 2014, 15:48
मथुरा। बसंत पंचमी पर मंगलवार को प्रकृति अंगड़ाई लेगी। हर तरफ बसंती परिधान का जलवा रहेगा। यह दिन ब्रज में कुछ खास होगा। ब्रज में बतौर 'होरा' प्रेम की बरसात का मानसून छा जाएगा। शुरू हो जाएगा समूचे ब्रज में 'होरा' का धमाल। मंदिरों में उड़ने लगेगा अबीर-गुलाल। गूंजने लगेंगे... आगे पढ़े

होलिका कंडे की, सीख सोलह गंडे की

Updated on 3 February, 2014, 15:45
वाराणसी। पर्यावरण असंतुलन के खतरों के मद्देनजर जब पेड़ों की कटान विश्वव्यापी चिंता हो, होलिका के नाम पर हजारों टन वन संपदा की आहुति का औचित्य इस समय पूरे नगर में विमर्श का विषय है। ऐसे में पवरेत्सवों की नगरी काशी में कचौड़ी गली की उस 'होलिका' का नजीर बन... आगे पढ़े

इलाहाबाद माघ मेले में उमड़ी शहर की भीड़

Updated on 3 February, 2014, 15:42
इलाहाबाद। शहरवासियों ने मौनी अमावस्या पर संगम न पहुंच पाने की कसक रविवार को निकाली। रविवार को माघ मेला क्षेत्र में छुट्टी मनाने के लिए शहरवासियों का रेला उमड़ पड़ा। संगम क्षेत्र में सैकड़ों लोगों ने स्नान किया और परेड ग्राउंड में सजी दुकानों पर खरीदारी की। झूला झूलने के लिए... आगे पढ़े

अर्जुन की भक्ति से ऐसी चीज से प्रकट हुए शिव आप सोच भी नहीं सकते

Updated on 2 February, 2014, 22:28
कहते हैं भगवान भक्त के हृदय में रहते हैं। मंदिर और देवस्थान तो मन को दिलासा दिलाने की बात है कि यहां भगवान रहते हैं। भगवान विष्णु ने नरसिंह के रुप में खंभे से अवतार लेकर इस बात को साबित किया तो भगवान शिव ने ऐसी चीज से प्रकट होकर... आगे पढ़े

India City news Exclusive