Wednesday, 26 September 2018, 5:04 AM

धर्म कर्म

विश्वनाथ दरबार ने मांगे दो अधिकारी

Updated on 7 February, 2014, 2:20
वाराणसी। सबकी झोली भरने वाले काशी पुराधिपति देवाधिदेव महादेव दरबार को मंदिर व्यवस्थापन के लिए दो अफसर चाहिए, एक मुख्य कार्यपालक तो दूसरे वित्त लेखाधिकारी मगर शासन है कि भगवान का भी ध्यान नहीं रखता। मुख्य कार्यपालक अधिकारी का पद नौ वर्षो से उधारी पर है। वित्त लेखाधिकारी 30 वर्ष... आगे पढ़े

तीन करोड़ की लागत से सारनाथ में बनेगा उपकेंद्र

Updated on 7 February, 2014, 2:18
वाराणसी। बिजली व्यवस्था से आजिज बनारस के एक क्षेत्र को अब शीघ्र ही राहत मिलने वाली है। सारनाथ में शक्तिपीठ आश्रम के नाम से 33केवी सबस्टेशन बनेगा। भूमि चयन के बाद वाराणसी जोन के मुख्य अभियंता ने निर्माण शुरू कराने के लिए बुधवार को स्वीकृति दे दी। इसके निर्माण में... आगे पढ़े

नाथद्वारा के राजा ने द्वार पर किया ब्रजराज का स्वागत

Updated on 7 February, 2014, 2:15
गोवर्धन। दुनिया को आस्था की किरणों से रोशन करते पर्वतराज की सवारी जिस तरह से शान-ओ-शौकत से नाथद्वारा पहुंची, नाथद्वारा के राजा ने भी उतनी की गर्मजोशी से गिरिराज जी का स्वागत किया। निज प्रयोग में आने वाले सूरज और चांद के राजकीय चिन्हाें को अगवानी के लिए भेजा तो... आगे पढ़े

आई बहार वसंत, उमंग मन गुरु चरनन लिपटायो

Updated on 3 February, 2014, 15:53
वृंदावन/आगरा। कान्हा की नगरी में बसंत पंचमी पर जगह-जगह पंडाल सजाकर मां सरस्वती की पूजा की जायेगी। शहर के कई इलाकों में पंडाल सजाने और प्रतिमाओं को संवारने का काम तेज गति से किया जा रहा है। भगवान श्रीकृष्ण की क्रीड़ास्थली में घर-घर भले ही लड्डूगोपाल की पूजा होती है। लेकिन... आगे पढ़े

पांच हजार मीरा कृष्णभक्ति में तल्लीन

Updated on 3 February, 2014, 15:50
वृंदावन। जहर का प्याला पीने वाली मीरा राजपाट को त्याग कान्हा की दीवानी हो गई थी। इस दीवानगी को आज भी जीवंत किये हुये हैं वृंदावन में रह रहीं पांच हजार मीराएं। ये सभी महिलायें परिवार त्याग कृष्ण की आराधना और भक्ति में लीन हैं। जबकि दान में मिले अन्न... आगे पढ़े

ब्रज में कल से बहेगी बसंती बयार

Updated on 3 February, 2014, 15:48
मथुरा। बसंत पंचमी पर मंगलवार को प्रकृति अंगड़ाई लेगी। हर तरफ बसंती परिधान का जलवा रहेगा। यह दिन ब्रज में कुछ खास होगा। ब्रज में बतौर 'होरा' प्रेम की बरसात का मानसून छा जाएगा। शुरू हो जाएगा समूचे ब्रज में 'होरा' का धमाल। मंदिरों में उड़ने लगेगा अबीर-गुलाल। गूंजने लगेंगे... आगे पढ़े

होलिका कंडे की, सीख सोलह गंडे की

Updated on 3 February, 2014, 15:45
वाराणसी। पर्यावरण असंतुलन के खतरों के मद्देनजर जब पेड़ों की कटान विश्वव्यापी चिंता हो, होलिका के नाम पर हजारों टन वन संपदा की आहुति का औचित्य इस समय पूरे नगर में विमर्श का विषय है। ऐसे में पवरेत्सवों की नगरी काशी में कचौड़ी गली की उस 'होलिका' का नजीर बन... आगे पढ़े

इलाहाबाद माघ मेले में उमड़ी शहर की भीड़

Updated on 3 February, 2014, 15:42
इलाहाबाद। शहरवासियों ने मौनी अमावस्या पर संगम न पहुंच पाने की कसक रविवार को निकाली। रविवार को माघ मेला क्षेत्र में छुट्टी मनाने के लिए शहरवासियों का रेला उमड़ पड़ा। संगम क्षेत्र में सैकड़ों लोगों ने स्नान किया और परेड ग्राउंड में सजी दुकानों पर खरीदारी की। झूला झूलने के लिए... आगे पढ़े

अर्जुन की भक्ति से ऐसी चीज से प्रकट हुए शिव आप सोच भी नहीं सकते

Updated on 2 February, 2014, 22:28
कहते हैं भगवान भक्त के हृदय में रहते हैं। मंदिर और देवस्थान तो मन को दिलासा दिलाने की बात है कि यहां भगवान रहते हैं। भगवान विष्णु ने नरसिंह के रुप में खंभे से अवतार लेकर इस बात को साबित किया तो भगवान शिव ने ऐसी चीज से प्रकट होकर... आगे पढ़े

बागन से आंगन तक बगरो वसंत है

Updated on 1 February, 2014, 22:14
फगुनहट का भेस धरती तीखी पुरवाई, बागों से खेतों तक पसरी पियराई। गंगा की लहरों की अल्हड़ अंगड़ाई, रातों-रात गमक उठी सोई अमराई। कहती है विदा शीत! जाता हेमंत है, फगुआ के गीत कहें, घर आए मीत कहें बागन से आंगन तक बगरो वसंत है। शहर से गांवों तक, डहर... आगे पढ़े

अब चमकेगी वाल्मीकि की तपोभूमि

Updated on 1 February, 2014, 22:13
ज्ञानपुर (भदोही)। ब्रह्मर्षि वाल्मीकि की तपोभूमि को संकट से उबारने के लिए पर्यटन विभाग ने बेड़ा उठाया है। विभाग ने इसको विकसित करने का प्रस्ताव तैयार कर भारत सरकार को भेजा है। सब कुछ ठीक रहा तो शीघ्र ही खंडहर बना यह आश्रम चमक उठेगा। ऐसे में पर्यटन के लिहाज... आगे पढ़े

सारनाथ में बनेगा 50 फीट ऊंचा बौद्ध स्तूप

Updated on 1 February, 2014, 22:12
वाराणसी। सारनाथ स्थित चाइना बौद्ध मंदिर परिसर में 50 फीट ऊंचा बौद्ध स्तूप बनेगा। शुक्रवार को इसके लिए थाई बौद्ध परंपरा के अनुसार भूमि पूजन कर इसका विधिवत शिलान्यास किया गया। स्तूप निर्माण में चुनार के पत्थर लगाए जाएंगे। भारत, चीन, थाईलैंड व लाओस के बीच मैत्री व करुणा की भावना... आगे पढ़े

विश्वनाथ मंदिर: फोटोग्राफी पर महामंडलेश्वर तलब

Updated on 1 February, 2014, 22:11
वाराणसी। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में रुद्राभिषेक की फोटोग्राफी शुक्रवार को एक चर्चित महामंडलेश्वर को महंगी पड़ गई। इस मामले में अन्नपूर्णा मंदिर के उप महंत को भी एसपी सुरक्षा की ओर से नोटिस जारी की गई है। मिली जानकारी के अनुसार केरल से आए चर्चित महामंडलेश्वर नित्यानंद सरस्वती शुक्रवार... आगे पढ़े

भय हरती है भगवान का स्मरण

Updated on 1 February, 2014, 22:09
इलाहाबाद। भगवान श्रीकृष्ण ने पूतना उद्धार, तृणावर्त, शकट भंजन, अधासुर, बकासुर आदि राक्षसों का वध कर भक्तों के भय का नाश किया। ब्रह्म जी को भगवान कृष्ण के बारे में मोह हुआ जिसे प्रभु ने दूर किया। कालिया नाग लीला करके ग्वालों को भयंकर संकट से छुड़ाया। माखन चोरी, मृदा... आगे पढ़े

इसलिए, महिलाएं पुरुषों से अधिक पूजा पाठ करती हैं

Updated on 1 February, 2014, 11:39
दिल्ली : महिलाएं पूजा पाठ ज्यादा करती हैं। मंदिरों, चर्च और इबादत गाहों पर भी ज्यादा जाती हैं। आमतौर पर माना जाता है कि इसकी वजह उनका अधिक भावनाशील होना और इस कारण अपने से ज्यादा भगवान पर भरोसा करना है। लेकिन ताजा अध्ययन बताते हैं कि महिलाएं ज्यादा आध्यात्मिक होती... आगे पढ़े

नारायणी शिला पर पित्रों को दिलाया मोक्ष

Updated on 31 January, 2014, 20:17
हरिद्वार। मौनी अमावस्या पर हजारों लोगों ने नारायणी शिला पहुंच कर अपने पितृों को मोक्ष दिलाया। इस मौके पर नारायणी शिला पर लोगों ने अपने पितृों के निमित यज्ञ-हवन किए। गुरुवार को गंगा स्नान के बाद हजारों लोगों ने नारायणी शिला पहुंचकर अपने पितृों के निमित यज्ञ और दान आदि कर... आगे पढ़े

विश्वनाथ मंदिर: सांस्कृतिक संकुल का 'मास्टर प्लान' तैयार

Updated on 31 January, 2014, 20:17
वाराणसी। चौकाघाट स्थित सांस्कृतिक संकुल की सार्थकता बढ़ाने को लेकर प्रशासन ने अपने स्तर से कवायद शुरू कर दी है। कोशिश यह है कि संकुल को इस रूप में विकसित किया जाए कि यहां लघु बनारस नजर आए, तंगहाली भी दूर हो। विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रांजल यादव की अध्यक्षता में... आगे पढ़े

बांके बिहारीजी मंदिर में हजारों श्रद्धालुओं ने किये दर्शन

Updated on 31 January, 2014, 20:14
वृंदावन। दिन खास था, बिहारीजी के एक दिन के दर्शन से जन्मों का पुण्य कमाने की कामना लेकर हजारों श्रद्धालुओं का रेला सुबह और शाम को मंदिर में उमड़ता रहा। इस दौरान पुलिस व्यवस्था न होने से लोगों को भारी परेशानी उठानी पड़ी। साल में एक बार माघ महीने में पड़ने... आगे पढ़े

मौन डुबकी को उमड़ा जनसमुद्र

Updated on 31 January, 2014, 20:13
वाराणसी। गंगा तट पर गुरुवार को मौन का डंका तो श्रद्धा की हिलोरें थीं। कोहरे से ढकी घाट की सीढि़यां और इस पर दो तीन पीढि़यां पुण्य बेला के इंतजार में रात से ही जमी थीं। मौन साधे, परंपराओं की पोटली हृदय में बांधे। चहुंओर धुंधलका लेकिन आस्था की उजास... आगे पढ़े

प्रयाग में दान की परंपरा आज भी यथावत

Updated on 31 January, 2014, 20:12
इलाहाबाद। प्रयाग दान क्षेत्र है। सम्राट हर्षवर्धन इसी दान क्षेत्र में आकर सबकुछ न्यौछावर कर जाते थे। वक्त जरूर बदला है पर प्रयाग में दान करने की परंपरा आज भी कायम है। देश विदेश से श्रद्धालु यहां दान करने आते हैं। माह भर मेला में अन्न क्षेत्र चलाते हैं, वस्त्र,... आगे पढ़े

विधा की देवी सरस्वती

Updated on 31 January, 2014, 13:37
भगवती सरस्वती विशुद्ध ज्ञान स्वरूपा हैं। उन्हें सामवेदात्मक शुद्ध सत्व-स्वरूप आदित्य के धर्म की प्रवर्तिका माना जाता है। मां सरस्वती प्रत्येक जीव में शुद्ध चेतना के रूप में प्रतिष्ठित रहती हैं। चूंकि हमारे भीतर चेतना रूप में सरस्वती विराजमान हैं, इसलिए हमें अपनी चेतना को श्रेष्ठ कायरें में लगाकर उसे... आगे पढ़े

ऋतु के स्वागत का पर्व बसंत पंचमी

Updated on 31 January, 2014, 13:35
वसंत ऋतु के आगमन के साथ ही चारों ओर उल्लासमय वातावरण छा जाता है और इसी के स्वागत में वसंतोत्सव मनाने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। प्रचलित पौराणिक कथा भगवती सरस्वती समस्त ज्ञान-विज्ञान, कला और संगीत की अधिष्ठात्री शक्ति हैं। कुछ धर्मग्रंथों में वसंत पंचमी को इनका आविर्भाव... आगे पढ़े

महारानी नहीं पूर्व जन्म में कुछ और ही थी महारानी द्रौपदी

Updated on 30 January, 2014, 21:20
किसी अमीर आदमी को देखकर यह नहीं कह सकते कि यह अगले जन्म में भी अमीर होगा। इस तरह अगर कोई आज गरीब है तो अगले जन्म में भी गरीब ही पैदा होगा। इसलिए न गरीबी से उदास होना चाहिए और न अमीरी का अहंकार करना चाहिए। भविष्य पुराण में पाण्डवों... आगे पढ़े

ज‌िस द‌िन हुआ था धरती का पहला मनुष्‍य पैदा

Updated on 30 January, 2014, 21:17
पुराणों में धरती का सबसे पहला मनुष्य मनु को बताया गया है। इनका जन्म माघ मास की कृष्ण पक्ष की अमवस्या को हुआ था। माना जाता है कि मनाली ही वह स्थान है जहां से मनु ने मनुष्य की वंश परंपरा को आगे बढ़ाया। इसलिए मनाली में इनका जन्मदिवस धूम-धाम... आगे पढ़े

अचानक नहीं आई, गांधी जी को पहले से पता था आने वाली है मौत

Updated on 30 January, 2014, 21:16
दिल्ली : कहते हैं मृत्यु बताकर नहीं आती। यह दबे पांव आकर व्यक्ति को अपने साथ लेकर चली जाती है। लेकिन कुछ दिव्य आत्मा ऐसी होती है जो मृत्यु की आहट पहचान लेती है और समझ जाते हैं कि उनकी मौत अब करीब आ चुकी है। ऐसे ही महान आत्मा... आगे पढ़े

हर पग संगम की ओर

Updated on 30 January, 2014, 21:13
इलाहाबाद। मौनी अमावस्या का पर्व और तीर्थराज प्रयाग में उमड़ा भक्तों का जनसैलाब। मौनव्रत रखकर श्रद्धालुओं ने गंगा-यमुना व अदृश्य सलिला सरस्वती की त्रिवेणी में आस्था की डुबकी लगाई। बादलों व सूर्यदेव की लुकाछिपी के बीच श्रद्धालुओं का कारवां संगम की ओर बढ़ता रहा। दिन में 11 बजे तक 40 लाख... आगे पढ़े

सिर पे गठरी गरम-गरम उपरी, छनन-छनन पूरी

Updated on 30 January, 2014, 21:11
इलाहाबाद। विश्व का सबसे बड़ा मेला हो और वहां से भौतिकता छू मंतर हो, कैसा लगेगा। कुछ ऐसा ही अद्भुत नजारा त्रिवेणी तट का था। भरी-पूरी गठरियों से भरा रेला, आपस में धक्कामुक्की करता कब संगम पर पहुंच जाता, पता ही नहीं चलता। पग-पग पर रेलों के बीच टक्कर, मगर... आगे पढ़े

संगम तीरे लोक की गंगा में डूबा तन-मन

Updated on 30 January, 2014, 21:10
इलाहाबाद। आस्था के सैलाब में डूबे तंबुओं की नगरी में कथा, रासलीला व प्रवचन की धूम मची है। धार्मिक शिविरों में धर्म की अलख जगाते साधु-सन्यासियों के दर्शन के लिए भी भक्तों का तांता लगा है। सेक्टर तीन स्थित कबीर पारख संस्थान के शिविर में बुधवार को प्रवचन का दौर... आगे पढ़े

मौनी अमावस्या: लाखों ने लगाई डुबकी

Updated on 30 January, 2014, 21:07
इलाहाबाद। मौनी अमावस्या पर्व पर स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं ने शुभ मुहूर्त का इंतजार नहीं किया और स्नान शुरू कर दिया। मेला क्षेत्र के दर्जन भर स्नान घाटों पर देर रात तक स्नान चलता रहा। ठंडे पानी से दूर खड़े लोगों ने लोगों को नहाते देख स्नान करने की ठान... आगे पढ़े

हर कारवां की मंजिल संगम

Updated on 29 January, 2014, 23:39
इलाहाबाद। अलोपीबाग फ्लाईओवर के पास खड़ी हैं कटनी की सुशीला, उनके साथ गांव के ही दर्जन भर लोग भी खड़े हैं। बस की लंबी यात्रा के बाद अपनी कमर को सीधी करके संगम जाने को तैयार यह स्नानार्थी गंगा मइया का जयकारा लगाकर पैदल ही काली सड़क पर बढ़ चलते... आगे पढ़े

India City news Exclusive