indiacitynews. com

सांची(रायसेन) से देवेंद्र तिवारी 

साँची में इस साल नगर की एक मात्र मस्जिद में ईदुज्वाह पर भी लाकडाउन के चलते सन्नाटा पसरा रहा । ईद की नमाज में मात्र पांच लोग ही नमाज पढ़ सकें ।जितने नमाज़ी नहीं थे उससे अधिक पुलिस कर्मियों को लगाया गया था ।
आज मुस्लिम धर्मावलंबियों का प्रमुख ईदुज्वाह का पर्व था इसकी विशेष नमाज मात्र पांच व्यक्तियो द्वारा ही अदा की गई । वैसे भी प्रशासन द्वारा शनिवार व रविवार का दो दिवसीय लाकडाउन लगाया गया है लाकडाउन के चलते शासन के निर्देशानुसार पूर्व में ही सांची मस्जिद कमेटी ने ऐलान कर दिया था कि लाकडाउन के चलते केवल पांच लोग ही ईद की नमाज अदा करेंगे तथा शैष सभी लोगों को अपने अपने घरों में ही रहकर नमाज अदा करना होगी । इस ऐलान के बाद से ही मुस्लिम समाज में मायूसी छा गई थी । तथा नगर के सभी मुस्लिम समाज के लोगों ने घरों में ही ईद की नमाज अदा की । आज ईदुज्वाह की नमाज मस्जिद में हाफिज अफसर सा, ने अदा कराई । इसके पूर्व भी लाकडाउन के चलते मुस्लिम समाज का जो पवित्र माह रमजान का माना जाता है उसमें भी केवल पांच लोग ही नमाज अदा करते रहे थे रमजान के बाद लगभग दो माह पूर्व आने वाली ईदुल फितर की नमाज पर भी लाकडाउन के चलते शासन के निर्देशानुसार केवल पांच ही लोगों ने नमाज अदा की थी तब भी लोगों को मायूस होना पड़ा था । नगर के लगभग सभी मंदिरों में लोगों के जाने पर तथा पूजा पाठ पर भी प्रतिबंध लगाया जा चुका था तथा आज भी पांच लोगों से अधिक मंदिरों में नहीं पहुंच सकेंगे वैसे भी यह समय त्योहारों का चल रहा है जिसमें लोगों को अपने अपने घरों में रहकर ही पूजा पाठ करना होगा जिसमें तथा प्रमुख भाई बहन का पवित्र रक्षा बंधन भी फीका रहेगा । वैसे भी इन दिनों कोरोना 19 का जोर बढ़ता ही जा रहा है इस ऐतिहासिक नगरी में भी लगभग तीन लोगों की रिपोर्ट भी पाज़िटिव आ चुकी है जिनके घरों को सील किया जाकर पीड़ितों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिसकारण नगर के लोगों में भयका वातावरण बन गया है  साथ ही आगामी गणेशोत्सव को लेकर भी प्रशासन द्वारा स्पष्ट कर दिया गया है कि भगवान गणेश की प्रतिमा छोटी रहेगी तथा घरों में ही पूजा अर्चना करनी होगी गणेश जी के भी न तो कहीं झांकियां लगाई जायेगी न ही पंडाल ही बनेंगे इस भयावह कोरोनावायरस ने सभी धर्म समुदाय के लोगों के धार्मिक स्थलों पर पहुंचने में तथा अपनी विभिन्न रूपों में पूजा अर्चना पर पूर्ण रूप से प्रतिबंधित कर दिया है  मंदिर सूने सपाट पड़े हुए हैं साथ ही सन्नाटा पसरा हुआ है । ऐसे में लोगों का कहना है कि यह बीमारी लगता है भगवान से भी बड़ी हो चुकी है । जिससे सरकारों ने धार्मिक स्थलों पर भी पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया है ।

न्यूज़ सोर्स : देवेंद्रतिवारी साँची