indiacitynews. com

ओबेदुल्लागंज(रायसेन) से अमित साहू

  श्रावण के महीने में रिमझिम फुहारों के बीच राखी का त्योहार रक्षाबंधन हर्षोउल्लास से मनाये जाने की तैयारी लगभग पूरी हो गयी है | भाई-बहन के इस त्योहार का रंग कुछ दिन पहले से ही बाज़ार में दिखने लगा है । कोरोना संक्रमण और दो दिन लगे लॉक डाउन के चलते जहां व्यापारी माल लाने से डर रहे थे, वहीं इसके विपरीत लोगो ने त्योहार की उमंग तथा धार्मिक मान्यताओं के चलते कोरोना को भुला दिया और उत्साह से बाज़ार में पहुंचकर त्योहारी खरीदारी की । लेकिन राखी का त्यौहार मिठाई के बिना अधूरा ही रह जाता है ओर राखी के दिन बाजार में सबसे ज्यादा मिठाइयों की मांग देखी जाती है | जिसे मिठाई निर्माता, होटल एवं डेरी संचालक और बिक्रेता पूरा भी करते है | वही दूसरी और आज-कल बाजार में मिलावट हर सामान में देखने को मिलती है, मानो यह हमारी रोजमर्रा की वस्तु बन गयी हो | वही निःसंदेह इस त्योहारी सीजन में मिठाई में मिलावट न हो यह संभव नही है | परंतु खाने पीने की इन वस्तुओं को चेक करने के लिए खादय विभाग का अमला मैदानी स्तर पर कही नज़र नहीं आता है और बाजार में धड़ल्ले से बिक रही इन मिठाइयों तथा खाद्य वस्तुओं की जांच के सेम्पल लेना भी उचित नही समझता | यदि सेम्पले लिए भी जाते है तो उनकी रिपोर्ट और आगे की कार्यवाही एक साल बाद की जाती है,  ऐसा अभी हाल ही में एक मिठाई बिक्रेता पर हुयी कार्यवाही में देखा गया है | लेकिन नगर में सालों से खाद विभाग के जांच अधिकारी मैदानी स्तर पर नदारत नजर आते है | यह सोचने वाली बात है कि, कैसे शासन और प्रशासन की नाक के नीचे नागरिकों के स्वस्थ से बड़े स्तर पर खिलवाड़ किया जा रहा है | लेकिन इस और शासन और प्रशासन ध्यान तक नहीं दे रहा है ।

न्यूज़ सोर्स : अमित साहू ओबेदुल्लागंज