सुरेन्द्र जैन धरसीवां

ओधोगिक क्षेत्र सिलतरा की सड़को पर बेतरतीब ढंग से खड़े वाहन न सिर्फ जाम का कारण बन रहे बल्कि अब दुपहिया सवारों की मौत का कारण भी बनने लगे हैं गुरुवार सुबह भी एक वाइक सवार फेक्ट्री कर्मी अनियंत्रित होकर खड़े ट्रक से टकरा गया जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई।
   *एपीआई में काम करता था मृतक*
     जानकारी के मुताबिक गुरुवार की सुबह करीब दस बजे वाइक सवार जिस युवक की लहदे ट्रक से टकराने से मौत हुई वह सिलतरा की एपीआई फेक्ट्री में काम करता था और नाइट ड्यूटी पूरी कर सिलतरा बस्ती जा रहा था।
   मृतक शत्रुध्न सिन्हा पिता दयाराम धीवर छत्तीसगढ़ के कोरबा का निवासी था वह सिलतरा में किराए के रूम में रहकर एपीआई फेक्ट्री में काम करता था गुरुवार को नाइट ड्यूटी पूरी कर अपनी वाइक क्रमांक सीजी 12 जेड 4802 से सिलतरा बस्ती जा रहा था तभी सड़क किनारे बेतरतीब ढंग से खड़े ट्रक क्रमांक सीजी 04 एमएन 4183 से अनियंत्रित होकर टकरा गया दरअसल सामने अचानक  कोई वाहन आने से  वह अनियंत्रीत होकर ट्रक से टकराया यदि सड़क पर बेतरतीब ट्रक न खड़ा होता तो शायद शत्रुध्न को कुछ न होता घटना की सूचना मिलते है डायल 112 में ड्यूटी पर तैनात कपिल चंद्रवंशी चालक अशोक बंजारे तुरन्त मौके पर  पहुचे ओर मरणासन्न अवस्था मे वाइक सवार को 112 से धरसीवां अस्पताल ले गए जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

  *अतिक्रमण व मालवाहक बने मुसीबत*
  ओधोगिक क्षेत्र सिलतरा की अधिकांश सड़कों को कुछ उधोगो ने ही संकीर्ण कर दिया है सड़क किनारे की जमीन को दबाकर अपनी फेक्ट्री का विस्तार करने अब तक सिलतरा से मुरेठी व सिलतरा से बहेसर मार्ग के  हजारों बबुल के वृक्ष काटे जा चुके है और उधोगो ने अपनी बाउंड्रीया आगे बढ़ा ली हैं साथ ही उधोगो ने अपने अपने उधोगो में आने वाले वाहनों को खड़े होने कोई व्यवस्था भी नही की है इसलिए भारी वाहनों की कतारें सड़को पर ही रहती हैं जो न सिर्फ जाम का कारण बनती है अपितु कई बार दुपहिया चालको की मौत का कारण भी बन जाती हैं।

न्यूज़ सोर्स : सुरेन्द्र जैन धरसीवां