अनुभवी डिफेंडर बिरेंद्र लाकड़ा आगामी टोक्यो ओलंपिक के लिए भारतीय हॉकी टीम में अपनी जगह बनाने के प्रयास में लगे हैं। लाकड़ा घुटने में चोट के कारण पिछली बार रियो ओलंपिक में नहीं खेल पाए थे। लाकड़ा ने कहा कि 2016 में समय काफी मुश्किल था जब मैं रियो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने से रह गया था। फिट होने के बाद मेरा एकमात्र लक्ष्य यह तय करना था कि मैं ओलंपिक के लिए पूरी तरह से तैयार रहूं।
उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल में मैंने अपने खेल पर काफी मेहनत की है और मैं टोक्यो ओलंपिक के लिए भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए प्रतिबद्ध हूं। मैं यह सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहा हूं कि अभ्यास के दौरान अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूं और प्रत्येक ट्रेनिंग सत्र में अपना सौ फीसदी प्रतिशत योगदान से सकूं। इस डिफेंडर ने कहा कि भारतीय टीम की बेंच स्ट्रैंथ इस समय इतनी तगड़ी है कि कोई भी खिलाड़ी टीम में अपनी जगह पक्की नहीं मान सकता। 
उन्होंने कहा कि हालांकि मैं भारतीय टीम के सबसे अनुभवी खिलाड़ियों में शामिल हूं लेकिन टीम में मेरी जगह पक्की नहीं है। प्रत्येक स्थान के लिए काफी प्रतिस्पर्धा है और इसके कारण हम सभी कभी कोई कमी नहीं रख रहे । लाकड़ा ने कहा कि हाल के अर्जेन्टीना दौरे में बेहतर प्रदर्शन से खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ा है। एक इकाई के रूप में हम काफी अच्छा खेले और दौरे से काफी सकारात्मक पक्ष रहे। हमने उन चीजों की पहचान की जिन पर दौरे के बाद हमें काम करने की जरूरत थी और हम साइ केंद्र में फिलहाल इन्हीं पर काम कर रहे हैं। ओलंपिक शुरू होने तक मुझे लगता है कि हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए तैयार हो जाएंगे।