नवाब मलिक बोले- मदद के लिए महाराष्ट्र के CM ने दिल्ली को फोन किया, तो बताया गया कि प्रधानमंत्री बंगाल में बिजी हैं

नवाब मलिक ने केंद्र सरकार पर रेमडेसिविर इंजेक्शन की सप्लाई में रुकावट डालने का आरोप भी लगाया।

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और NCP नेता नवाब मलिक ने केंद्र सरकार पर महामारी से ज्यादा बंगाल चुनाव को अहमियत देने का आरोप लगाया है। मलिक ने कहा, 'महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे फोन पर PM नरेंद्र मोदी से बात करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन उनके ऑफिस से बताया गया कि PM पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं। इससे पता चलता है कि BJP इस संकट से निपटने के बजाय चुनाव जीतने में ज्यादा दिलचस्पी रखती है।'

नवाब मलिक ने रेमडेसिविर की सप्लाई को लेकर भी मालिक ने केंद्र पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि केंद्र के डर से रेमडेसिविर बनाने वाली कंपनियां महाराष्ट्र में इसकी सप्लाई नहीं कर रही हैं। उन्होंने कहा कि कंपनियों को धमकी दी जा रही है कि अगर वे महाराष्ट्र को यह इंजेक्शन देंगे तो उनका लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा। यह दुखद और चौंकाने वाला है।

एक्सपोर्ट पर बैन, लेकिन देश में बेचने की इजाजत नहीं

मलिक ने कहा, 'भारत में 16 निर्यातकों को 20 लाख रेमडेसिविर के इंजेक्शन बेचने की अनुमति नहीं है। अब जबकि केंद्र सरकार ने इसके निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है, तो इसे देश में बेचने की अनुमति मांग रहे हैं, लेकिन उन्हें अनुमति नहीं दी जा रही है। इस स्थिति में महाराष्ट्र सरकार के पास इन 16 निर्यातकों से रेमडेसिवीर के स्टॉक को जब्त करने और जरूरतमंदों को आपूर्ति करने के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा।'

उन्होंने आगे कहा, 'केंद्र सरकार ने कहा है कि रेमेडिसविर को केवल 7 कंपनियों के माध्यम से बेचा जाना चाहिए, जो इसका उत्पादन कर रही हैं। अब ये 7 कंपनियां भी केंद्र के दबाव में मना कर रही हैं। इस मुद्दे पर ध्यान देने की जरूरत है और राज्य के सभी सरकारी हॉस्पिटल्स में इसे उपलब्ध करवाया जाना चाहिए।'

ऑक्सीजन की सप्लाई में बाधा डालने का भी आरोप

मालिक ने महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की आपूर्ति में बाधा डालने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए सेना को इस युद्ध जैसी स्थिति में लगाने की जरूरत थी, लेकिन प्रधानमंत्री चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं।

मृत्यु प्रमाण पत्र पर भी हो PM मोदी की तस्वीर

प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए मलिक ने कहा कि जिस तरह से PM मोदी के फोटो को टीकाकरण प्रमाणपत्र पर लगाया जाता है, हम मांग करते हैं कि पीएम की फोटो को मृत्यु प्रमाण पत्र पर भी लगाया जाना चाहिए। यदि वे COVID-19 टीकाकरण का श्रेय ले रहे हैं, तो, उन्हें मौतों की जिम्मेदारी भी लेनी होगी।