लंदन । स्कॉच व्हिस्की निर्माताओं ने तब राहत की सांस ली जब अमेरिका ने विमान कंपनियों-बोइंग और एअरबस से जुड़े सब्सिडी मुद्दे पर वाशिंगटन और यूरोपीय संघ के बीच व्यापार विवाद का समाधान हो गया। इसमें स्कॉटलैंड के मुख्य निर्यातों में से एक पर शुल्क निलंबित करने पर सहमति जताई। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वैमानिकी सब्सिडी पर व्यापार विवाद के चलते अक्टूबर 2019 में 25 प्रतिशत शुल्क लगा दिया था। अब ब्रिटेन यूरोपीय संघ का सदस्य नहीं है और जिस समय यह शुल्क लगाया गया था, उस समय वह यूरोपीय संघ का सदस्य था। इस सप्ताह के शुरू में, अमेरिका और यूरोपीय संघ अपने विवाद को खत्म करने पर सहमत हुए जिससे दोनों तरफ से जैतून के तेल, पनीर और व्हिस्की सहित विभिन्न उत्पादों पर पांच साल के लिए शुल्क निलंबन का मार्ग प्रशस्त हो गया।
  स्कॉच विस्की एसोसिएशन के अनुमान के मुताबिक शुल्क की वजह से अमेरिका को उत्पाद के कुल निर्यात में मार्च 2021 तक 18 महीने की अवधि में 30 प्रतिशत तक की गिरावट आई। एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कारेन बेट्स ने शुल्क हटाने के अमेरिका के फैसले का स्वागत किया है। अमेरिका-यूरोपीय संघ के बीच वैमानिकी समझौते के बाद ब्रिटेन के अंतरराष्ट्रीय व्यापार मंत्री लिज ट्रुस और अमेरिका के व्यापार प्रतिनिधि कैथरीन ताई पांच साल के लिए जवाबी शुल्क को निलंबित करने पर सहमत हुए। बृहस्पतिवार को हुए समझौते के तहत ब्रिटेन अमेरिकी रम, ब्रांडी और वोदका पर पांच साल के लिए 25 प्रतिशत शुल्क को निलंबित करेगा। हालांकि यूरोपीय संघ और अमेरिका के बीच स्टील एवं एल्यूमीनियम विवाद के चलते ब्रिटेन में अमेरिकी व्हिस्की पर 25 प्रतिशत शुल्क जारी रहेगा।