नई दिल्ली । ओलंपिक टिकट हासिल करने वाले भारतीय भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने लिस्बन स्पर्धा में 83.18 मीटर के साथ स्वर्ण जीतने पर कहा कि उन्होंने इस प्रतियोगिता को अभ्यास की तरह लेते हुए यह नतीजा हासिल किया। अगली अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में उनका प्रदर्शन और बेहतर होगा। इस 23 साल के खिलाड़ी ने एक साल से अधिक समय के बाद अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेते हुए 83.18 मीटर के प्रदर्शन के साथ ओलंपिक तैयारी के लिहाज से विदेश में अच्छी शुरूआत की है। 
उन्होंने गुरुवार को अपने छठे प्रयास में यह दूरी हासिल की। चोपड़ा ने कहा हम पहले से जानते थे कि लिस्बन में इस प्रतियोगिता में कौन भाग ले रहा है और मेरे कोच ने मुझे अभ्यास की प्रतिस्पर्धा करने की सलाह के साथ कहा कि मुझे इसमें अपना शत प्रतिशत नहीं देना चाहिये। उन्होंने कहा मेरे पास लिस्बन के लिए बहुत कम समय था और मैं इसे एक अभ्यास की तरह ही ले रहा था। आने वाले प्रतियोगिताओं में मुकाबले कड़े होंगे और मैं अधिक मेहनत करूंगा। चोपड़ा के साथ कोच एवं बायोमैकेनिकल विशेषज्ञ क्लॉस बार्टोनिएट्स और फिजियो इसान मारवाह भी दौरे पर गये हैं। वह 22 जून को स्वीडन में कार्लस्टेड मीट और 26 जून को फिनलैंड में कुओर्टेन खेलों में भाग लेंगे।