नई दिल्ली । टोक्यो ओलंपिक के प्री क्वार्टर फाइनल में हारने के बाद स्वदेश लौटी भारतीय महिला मुक्केबाज मेरी कॉम ने कहा है कि उनका अभी संन्यास लेने का कोई इरादा नहीं है। मेरी कॉम ने कहा है कि वह 40 साल की उम्र तक खेलेंगी।   विवादास्पद निर्णय के कारण ओलंपिक से बाहर हुई मेरी कॉम ने कहा है कि उनका जोश और उत्साह अभी भी बरकरार है।  स्वदेश लौटने पर 38 वर्षीय इस मुक्केबाज ने कहा कि वह 40 की उम्र तक खेल सकती हैं। जिस मुकाबले में मेरी कॉम हारी वह विवादों में रहा था। जब रैफरी ने मुकाबले के अंत में विरोधी खिलाड़ी कोलंबिया की वालेंसिया का हाथ ऊपर उठाया तो मेरी कॉम की आंखों में आंसू थे और चेहरे पर मुस्कान थी। इस मुकाबले की शुरूआत से ही दोनों मुक्केबाज एक दूसरे पर प्रहार कर रही थीं, लेकिन वालेंसिया ने पहला दौर 4-1 से जीत लिया। 
मेरी कॉम ने शानदार वापसी कर दूसरे और तीसरे दौर को 3-2 से जीत लिया पर शुरुआती दौर की बढ़त के कारण रैफरी ने वालेसिंया को विजेता घोषित कर दिया। भारतीय मुक्केबाज ने दूसरे और तीसरे दौर में दाहिने ‘हुक’ का बखूबी इस्तेमाल किया। मेरी कॉम ने साल 2019 विश्व चैंपियनशिप के क्वार्टरफाइनल में वालेंसिया को हराया था। कोलंबियाई मुक्केबाज की यह मेरी कॉम पर पहली जीत है।